BiharEntertainmentLife StyleState

ग्राम गौरव विकास दूत के कलाकारों ने नुक्कड़ नाटक के माध्यम से कुरितियों को दूर करने का दिया संदेश – नवादा |

रवीन्द्र नाथ भैया |

नवादा : श्रीमती उदिता सिंह जिला पदाधिकारी के आदेश के आलोक में अकबरपुर प्रखंड के पचगावाॅ, भनैल, और पैजुना में गीत-संगीत और नृत्य के माध्यम से नुक्कड़ नाटक का प्रदर्शन ग्रामीण गौरव विकास दूत के द्वारा किया गया। दहेज प्रथा, नशामुक्ति उन्मूलन, बाल विवाह के साथ-साथ विभिन्न प्रकार के महत्वकांक्षी और जन कल्याणकारी योजनाओं को नुक्कड़ नाटक के माध्यम से स्थानीय नागरिकों को बताया गया।
स्थानीय लोगों को बताया गया कि हमारे समाज के लिए दहेज प्रथा अभिशाप बन गया है। दहेज की कुरीतियों पर लोगों को विशेष रूप से जागरूक किया गया और इस कुप्रथा से बिहार को मुक्त करने के लिए लोगों को आगे आने का आह्वान किया। टीम ने ’’
जन जन तक पहुंचे पैगाम, दहेज लेना और देना दोनों हराम है
’’दहेज मिटायें, खुशहाली का दीप जलायें’’:-
सत्येंद्र प्रसाद जिला जनसंपर्क अधिकारी ने कहा कि दहेज प्रथा एक सामाजिक कुरीति है जो कानून अपराध घोषित होने के बावजूद समाज में व्याप्त हैं।
वर पक्ष इसे लड़के पर बचपन से युवा अवस्था तक खर्च की गई राशि की वसूली का माध्यम समझता है, कन्या पक्ष के लिए दहेज देना मजबूरी हो जाती है और इस क्रम में हुए वे कर्जदार हो जाते हैं। कई परिवारों में लड़के वाले लालच में आकर अधिक दहेज के लिए नई ब्याह की गई लड़कियों को तंग तबाह करते हैं जो कई मामलों में आत्महत्या का कारण भी बनता है, अन्यथा दहेज हत्या का मामला बनता है ।
दहेज प्रथा की वजह से समाज में लड़कियों को उनके जन्म से ही वोझ समझा जाता है और उनके प्रति शुरू से भेदभाव पूर्ण आचरण किया जाता है ।खानपान से लेकर शिक्षा तथा स्वास्थ्य तक में कमी देखी जाती है। उन्हें लड़कों की तुलना में बेहतर जीवनशैली नहीं मिल पाती है। दहेज प्रथा को दूर करने के लिए कई कानून भी बनाए गए हैं, जिसका व्यापक प्रचार-प्रसार नुक्कड़ नाटक के माध्यम से किया गया ।
नुक्कड़ नाटक प्रदर्शन में नाटक के लीडर विनोद कुमार सिंह, संतोष कुमार, विक्की, राजकुमार, रंजीत, मुन्नी कुमारी, सपना, निक्की, शंकर पाण्डेय आदि कलाकारों ने भाग लिया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button